आज लगभग हर व्यक्ति की जिंदगी बहुत ही जटिलता और उतार चढ़ाव से भरी हुई है। जिंदगी में दुःख भी है और सुख भी। असल मे सुख और दुख एक दूसरे के पूरक है।

अगर आप सुख और दुख के बीच में संतुलन बना लेते है तो हम अपनी जिंदगी को पूरी तरह से खुलकर जी सकते है। अगर हमारी ज़िंदगी मे एक खुशी का पल चला जाये तो इसका यह अर्थ नही है कि अब हमारे जीवन मे खुशी का मौका दुबारा नही आएगा।

लाइफ हमे जीने के लिये बहुत से अवसर देती है। लेकिन हर साल कोई यह चाहता है कि उनका पूरा जीवन खुशियों से भरपूर रहे, ऐसा कोई नही है जो अपने जीवन मे किसी भी तरह का दुख या परेशानी को देखना चाहता हो।

लेकिन अगर हम यह स्वीकार कर ले कि हमारे जीवन के लिए सुख जितना जरूरी है उतना ही जरूरी दुख भी है तो हम एक सुखी जीवन व्यतीत कर सकते है।

अपने हर पल को खुलकर जिए

ईश्वर की ओर से हम सभी को जिंदगी एक अनमोल तोहफे के रूप में मिली है। कहा जाता है कि बड़ी हसरत के बाद हमे जीवन मिलता है तो आप इससे ऐसे ही व्यर्थ न करे है

चिंता मुक्त रहे 

अगर आप एक खुशहाल जीवन जीना चाहते हैं तो फालतू की बातों को लेकर सोचना और फालतू की चिंता करना बंद करें जब आप ऐसा कर देंगे तब आप एक खुशहाल जीवन जी सकेंगे।

दुसरो की सहायता करें 

कहा जाता है कि दूसरों की सेवा करना सबसे बड़ा पुण्य का काम होता है। इसलिए दूसरों की सेवा करने से आपको कभी पीछे नहीं हटना चाहिए। जब भी आप को मौका मिले तब किसी परेशान व्यक्ति की मदद करके देखें।

हमेशा हंसते रहे  

हंसना सेहत के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता है और हंसने में कोई पैसा खर्च नहीं होता। अकेले तो खुश हर कोई रह सकता है लेकिन जब कोई व्यक्ति दूसरे के चेहरे पर मुस्कुराहट की वजह बनता है।

सकारात्मक सोच रखे 

हमारे बीच बहुत से ऐसे लोग हैं जिनके मन में छोटी सी बात को लेकर नकारात्मक भाव उत्पन्न होते रहते हैं जो लोगों के जीवन में दुखों का कारण बनता है। इसलिए अपनी सोच को नकारात्मक से सकारात्मक में परिवर्तित करें 

अच्छी जगह पर घूमे  

घूमने से हमारा मूड फ्रेश रहता है इसलिए अगर आप किसी समस्या से परेशान है तो उसके बारे में बैठकर चिंता करने से अच्छा है आप ऐसी जगहों पर घूमने जहां आपको घूमना अच्छा लगता है।

क्रोध न करें, क्षमा करें 

अक्सर लोग गुस्से में बहुत गलत कदम उठा देते हैं जिसके बाद उन्हें बाद में पछताना पड़ता है। गुस्से में किसी से कुछ कहने से अच्छा है कि आप शांत रहें।

वर्तमान में जीना सीखें 

धिकतर लोग ऐसे हैं जो वर्तमान में जीने की वजह अतीत में जीते हैं जिसकी वजह से उनकी लाइफ में सदैव दुख के बादल छाए रहते हैं। 

व्यायाम करें  

अगर आप सुबह देर तक सोते रहते हैं तो सुबह देर तक सोने की वजह जल्दी उठकर बाहर निकल जाए और जब तक आपका मन करे टहलते रहे। 

खुशहाल जिंदगी कैसे जिये?|खुशहाल जीवन जीने के सही तरीके अधिक जानकारी के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें?