भगवान है या नहीं यह सवाल आज भी बना हुआ है हमारे धर्म और शास्त्रों ने भगवान के होने के कई सबूत दिए हैं ।

भगवान श्रीराम जी को हिंदू धर्म में एक विशेष स्थान प्राप्त है हर कोई रामचरितमानस को पूरी श्रद्धा से पढ़ता है ।  

आप सभी ने रामायण में रामसेतु के बारे में तो सुना ही होगा जो पत्थरों से बनी श्रंखला है । इस पुल को भगवान राम जी ने समुद्र को पार करने के लिए बनाया था ।

रामसेतु पुल के पत्थर पानी में तैरते हैं । सुनामी के बाद कुछ पत्थर जमीन पर आ गए थे यह पत्थर आज भी तैरते हैं ।

अशोक वाटिका आज भी लंका में मौजूद है जहां रावण ने सीता जी का अपहरण करकर रखा था । जहां सीता जी को ले जाया गया था वह जगह गुरुलपोटा है जिसे अब सीतोकोटुआ के नाम से भी जाना जाता है ।

रावण के महल के अवशेष आज भी मौजूद है जिसे हनुमान जी ने लंका के साथ जला दिया था । जलने के बाद वहां की मिट्टी काली हो गई थी जबकि बाकी जगह की मिट्टी का रंग वैसा ही है ।

भगवान श्रीकृष्ण को द्वारका का राजा कहां जाता है और महाभारत में यह जानकारी मिलती है यह नगरी पानी में डूब गई थी ।

इस मंदिर के ऊपर से कोई पक्षी या विमान नहीं उड़ता । इस मंदिर का ध्वज हमेशा हवा के विपरीत दिशा में लहराता है ।

भगवान हनुमान जी आज भी जिंदा है और धरती पर मौजूद है । हिंदू ग्रंथों में सभी देवताओं के स्वर्ग जाने की कहानियां देखने को मिलती है लेकिन हनुमान जी की नहीं ।

जब हनुमान जी सीता जी की खोज के लिए समुंदर पार करकर गए थे । तो जहां उन्होंने अपने पहले पैर रखें थे वहां पैरों के निशान आज भी मौजूद है ।

सीता माता के अपहरण के समय राम जी की मुलाकात हनुमान जी से हुई थी । उसके बाद एक स्थान पर हनुमान जी प्रतिदिन श्रीराम जी का इंतजार करते थे उस स्थान को हनुमानगढ़ी के नाम से जाना जाता है ।

मेहंदीपुर बालाजी हनुमान जी का सबसे चमत्कारी मंदिर है । यहां आने के बाद बड़ी से बड़ी बीमारियां ठीक हो जाती है और रोगी बिल्कुल ठीक हो जाता है । इसका रहस्य आज तक वैज्ञानिक भी नहीं सुलझा पाए हैं ।

भगवान शिव का बर्फ का शिवलिंग अमरनाथ में खुद ही बनता है जो बिल्कुल असली शिवलिंग होता है । इससे साबित होता है भगवान शिव आज भी मौजूद है और शिवलिंग के रूप में भक्तों को दर्शन देते हैं ।