हैल्लो फ्रेंड्स हम आपको अपनी पिछली पोस्ट में भीमराव अम्बेडकर जी के जन्म से लेकर उनके राजनितिक सफर तक के बारे में बता चुके है। 

आज हम आपको अपनी इस पोस्ट में उनके कुछ ऐसे विचारो के बारे में बताएंगे जो उन्होंने अपने जीवन में अपनाये थे और आगे बढ़ते गए। 

दोस्तों डॉ भीमराव अंबेडकर एक निचली जाति महार में जन्म लिया था लेकिन अपनी दूरदर्शिता के चलते पूरे विश्व में प्यापक रूप से पहचाने जाते थे। 

डॉ भीमराव अम्बेडकर कहते है की कोई भी  इंसान जन्म से महान नहीं होता है.बल्कि बाह अपने कर्मो से महान बनता है। 

बाबा साहेब के साथ हुआ था उनका जन्म भले ही एक अछूत जाति में हुआ था. लेकिन उन्होंने अपने जीवन से काफी संघर्ष किया और लोगो को यह बता दिया की इंसान चाहे कितना भी अमीर हो या गरीब हो या किसी भी जाती में पैदा हो इससे  कोई भी फर्क नहीं पड़ता है। 

हम आपको बता दे की भारत संविधान के रचयिता भीमराव अंबेडकर के उच्च विचार महान और आदर्शो को दर्शाते है। 

मै उसी धर्म को को मानता हूँ जो स्वतंत्र, समानता और आपस में भाईचारा रखना सिखाता है.-डॉ भीमराव अम्बेडकर। 

डॉ भीमराव अम्बेडकर के अनमोल विचार से जुडी ज्यादा जानकारी के लिए नीचे क्लिक करे।