आज के समय मे लोग अपना समय और पैसे (Time and money) की बचत करने के लिए बैंड-बाजे वाली शादियां (Marriages) करने के बजह कोर्ट मैरिज (Court marriage) की ओर रुख कर रहे हैं

क्योंकि परम्परगत शादियों (Traditional weddings) को करने के लोगो को लाखों रुपयों का खर्च (Expenses) करना पड़ता है, वही कोर्ट मैरिज को कम खर्च पर आसानी से कर सकते है।

आज के समय मे लोग अपना समय और पैसे (Time and money) की बचत करने के लिए बैंड-बाजे वाली शादियां (Marriages) करने के बजह कोर्ट मैरिज (Court marriage) की ओर रुख कर रहे हैं

      कोर्ट मैरिज क्या है?

जैसा कि आप सभी जानते है कि हमारे पूरे देश मे जाति प्रथा शुरू से चली आ रही है जो एक बहुत ही जटिल समस्या बन चुकी है। जिससे पूर्ण रूप से खत्म करने के लिए भारत सरकार के द्वारा विशेष विवाह अधिनियम 1954  को बनाया गया.

कोर्ट मैरिज करने पर कितना रुपए मिलता है?

कोर्ट मैरिज करने पर नव जोड़े को भारत सरकार के द्वारा 2.5 लाख रुपए की वित्तीय राशि प्रदान की जाती है।

court marriage करने पर पैसा कैसे मिलता है?

कोर्ट मैरिज करने पर केवल उन विवाहित जोड़ों को पैसा मिलता है जिनमें कोई एक दलित समुदाय से संबंध रखता है तथा दूसरा अन्य समुदाय से।

कोर्ट मैरिज करने पर किस फाउंडेशन के द्वारा वित्तीय राशि मिलती है?

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर फाउंडेशन के द्वारा court marriage करने वाले दलित जोड़ें यानी जिस में से कोई एक पक्ष दलित समुदाय का होता है उन्हें वित्तीय राशि प्रदान की जाती है।

कोर्ट मैरिज शादी करने के लिए क्या करना होगा?

अगर आप आज के समय में परंपरागत तरीके से होने बाले शादी विवाह के स्थान पर कोर्ट मैरिज करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको मैरिज रजिस्ट्रार के ऑफिस में जाना होगा।

कोर्ट मैरिज शादी करने पर कितना पैसा मिलता है? इसके बारे में और ज्यादा जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें?