आपने कई प्रकार के कछुओं के बारे में सुना होगा जैसे 18 नाखून का कछुआ 20 और 21 नाखून का कछुआ दोस्तों 12 नाखून वाले कछुए के लिए कोई भी अच्छे पैसे देने को तैयार है ,

20 नाखून वाले कछुए की लोग ऊंची कीमत देने को तैयार है । इंटरनेशनल मार्केट में इसकी कीमत करोड़ों में है और भारत में भी यह 2 से 4 लाख का बिकता है । 

क्या वाकई 20 नाखून वाले कछुए से नोटों की बारिश की जा सकती है क्या सच में इसकी मदद से गड़े खजाने का पता लगाया जा सकता है ।  

20 नाखून का कछुआ जिसे बीसा या फोर व्हीलर जैसे अलग-अलग नामो से जाना जाता है । 20 नाखून का कछुआ दुर्लभ प्रजाति का है और बहुत ही मुश्किल से पाया जाता है 

इसलिए इसकी कीमत इंटरनेशनल मार्केट में ज्यादा है वह लाखों और करोड़ों में भी है । क्योंकि इंटरनेशनल मार्केट में इसकी कीमत ज्यादा है 

इस कछुए की कीमत उसके नरम कवच और कड़े कवच के हिसाब से भी लगाई जाती है । तांत्रिकों का कहना है यदि कोई उन्हें यह कछुआ लाकर देगा तो वह उसे मालामाल कर सकते हैं , 

क्या 20 नाखून के कछुए की मदद से नोटों की बारिश कराई जा सकती है तो यह बात भी सरासर गलत है कोई भी महारथी ऐसा नहीं कर सकता है ।  

अक्सर यह कहां जाता है आप मुझे 20 नाखून का कछुआ लाकर दीजिए और मैं नोटों की बारिश करूंगा और कमरा नोटों से भर जाएगा । 

दरअसल इसके पीछे एक राज है जो इंटरनेशनल मार्केट के तस्कर हैं जो इसे ऊंची ऊंची कीमतों में बेचते हैं वह क्या करते हैं अपने साथ में नजरबंद वाले जादूगर को शामिल करते हैं । 

वह नजरबंद जादूगर 20 नाखून का कछुआ रखते हैं उस पर नोट चिपकाते हैं और जितने का नोट वह रखेगा उसी नोट की बारिश होगी वह नजर बंद करकर लोगों को नोटों की बारिश दिखा देते हैं ।  

वह नजरबंद जादूगर 20 नाखून का कछुआ रखते हैं उस पर नोट चिपकाते हैं और जितने का नोट वह रखेगा उसी नोट की बारिश होगी वह नजर बंद करकर लोगों को नोटों की बारिश दिखा देते हैं ।  

जो भी 20 नाखून के कछुए का इंतजाम किया होता है वह  सुबह देखते हैं उसकी जेब खाली है नोटों की बारिश नकली थी यह नजर बंद कराई जाती है  

सिर्फ और सिर्फ उस कछुए को हासिल करने के लिए वह कछुआ लेकर चले जाते हैं । तो 20 नाखून से बारिश कराने वाली बात झूठ है सरासर गलत है