महार्षि वाल्मीकि के 50+अनमोल विचार-Thoughts of Mahishi Valmiki in hindi

वाल्मीकि जयंती के शुभ अवसर मेरे सभी देश वासियो को हार्दिक शुभकामनाये भारत में युगों पूर्व से ही महान लोगो ने इस पावन धरती पर जन्म लेकर महान कार्य किये है. हमारे देश में समय – समय पर महा विचारक, दार्शनिक, कवि और विद्वानों ने जन्म लिया है. ऐसे ही एक महान लेखक महर्षि वाल्मीकि भी हमारे देश के एक महान विद्वान हुए है,आदिकवि महर्षि वाल्मीकि जी ने रामायण की रचना करके हर किसी को सद्‍मार्ग पर चलने की राह दिखाई। पावन ग्रंथ रामायण में प्रेम, त्याग, तप व यश की भावनाओं को महत्व दिया गया है.उन्होंने कुछ ऐसे अनमोल वचन भी बताये जो हमारे जीवन को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते है. तो आइये जानते महर्षि जी के अनमोल विचारो को.

2018 महर्षि वाल्मीकि जयंती

गणेश चतुर्थी क्यों मनाई जाती है

  • जननी और जन्मभूमि स्वर्ग से भी बढ़कर है.

———————————-

  • प्रण को तोड़ने से पुण्य नस्ट हो जाता है.

thoughts of Mahishi Valmiki

———————————–

  • जो व्यक्ति निरंतर शोक करते रहते है, उन्हें जीवन में कभी सुख नहीं मिलता है

————————————

  • असत्य के सामान पातककुंज नहीं है,समस्त सत्यकर्मो का आधार ही सत्य है.

————————————-

  • संत दूसरो को दुःख से बचने के लिए कष्ट सहते है,और दुष्ट लोग दूसरो को दुःख में डालने मे के लिए

————————————-

  • मनुष्य का आचरण ही बतलाता है कि वह कुलीन है या अकुलीन, वीर है या कायर अथवा पवित्र है या अपवित्र

————————————-

thoughts of Mahishi Valmiki

  • किसी के साथ अत्यंत प्रेम न करे और प्रेम का सवर्था आभाव भी न होने दो,क्योकि ये दोनों ही महान दोष है,अतः माध्य्म स्तिथि पर दृस्टि रखो.

————————————-

  • मित्र बनाना सरल है, मैत्री पालन दुष्कर है| चितों की अस्थिरता के कारण अल्प मतभेद होने पर भी मित्रता टूट जाती है.

————————————-

  • नारी के लिए वास्तव में उसका पति ही सम्पूर्ण आभूषण है, उससे पृथक रहकर वह कितनी भी सुंदर क्यों न हो सुशोभित नहीं होती है.

————————————

जन्माष्टमी क्यों और कब मनायी जाती है

भैया दूज क्यों मनाया जाता है

  • इस दुनिया में दुर्लभ कुछ भी नहीं है, अगर उत्साह का साथ न छोड़ा जाए अहंकार मनुष्य का बहुत बड़ा दुश्मन है। वह सोने के हार को भी मिट्टी का बना देता है।

————————————-

thoughts of Mahishi Valmiki

  • किसी भी प्राणी के साथ बहुत अधिक लगाव न रखे और ना ही किसी प्राणी को खुद से दूर रखे. हमेशा मध्यम मार्ग ही अपनाए

—————————————-

महर्षि वाल्मीकि जयंती स्टेटस शायरी

रामायण के है जो रचिता

संस्कृत के हैं जो कवी महान,

ऐस हमारे पूजी गुरुवार

जिन्के चर्नन मुझे हमारा प्राणम।

महर्षि वाल्मीकि जयंती की हार्दिक शुभकामनये

100+happy Diwali 2018 images photos wishes sms

वाल्मीकि का जीवन हमें सिखाता है,

कि वे अच्छे या बुरे नहीं पैदा हुए हैं,

यह हमारे कर्म हैं जो हमारी,

महानता को निर्धारित करते हैं.

आप ज्ञान और धन इकट्ठा कर सकते हैं
और प्रतिष्ठा और शक्ति, लेकिन
अगर प्यार याद आ गया है
आप असली दरवाजा चूक गए हैं
हैप्पी महर्षि वाल्मीकि जयंती 2018

पंडित दीनदयाल उपाध्याय के अनमोल वचन

रामायण के है रचियता संस्कृत के है

जो कवी ऐसे हामरे पूज्य गुरु जी,

जिनके चरणों में हमारा प्राणायाम।

मुझे उम्मीद है कि आप हमारी पोस्ट आपको पसंद आयी होगी, महर्षि वाल्मीकि जी के अनमोल वचन और जयंती व्हाट्सएप और फेसबुक स्टेटस, अगर आपको यह पसंद आया तो इसे फेसबुक,व्हाट्सप्प जैसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करे

Leave a Comment