Teacher’s Day कब और क्यों मनाया जाता है?When and why is the Teacher’s Day celebrated

Teacher’s Day कब और क्यों मनाया जाता है:-दोस्तों आज हम इस आर्टिकल के जरिये आपको बताएंगे की Teachers Day कब और क्यों मनाया जाता है दोस्तों कहते है की शिक्षक वो जरिया होता है,जो किसी भी शिष्य को मंजिल की और ले जाता है एक शिक्षक के बिना कोई भी शिष्य Engineer,Pilot,Doctor,नहीं बन सकता है,और आज Teachers Day की जरूरत इसलिए भी है, की आज के बच्चे और उनके माता-पिता को एक शिक्षक की महत्वता को समझ सके की शिक्षक के बिना बच्चे की कोई भी पहचान नहीं हो सकती है साथ ही शिक्षा का असली ज्ञान सिर्फ एक शिक्षक ही दे सकता है।

दोस्तों शिक्षक समाज का वो हिस्सा है, जिसके कारण ही समाज का निर्माण होता है पर दोस्तों आज इसमें कुछ उल्टा देखने को मिलता है. मतलव आज हर जगह देखने को मिलता है, की शिक्षक और बच्चो में दूरियां बढ़ने लगी है.आज शिक्षक का महत्व शिष्यों की नजरो में बहुत कम होता जा रहा है पर दोस्तों हमें इसे बदलना होगा और ये समझना है, की एक शिक्षक के बिना हम कभी आगे नहीं बड़ सकते है।आइये जानते है दोस्तों की शिक्षक दिवस आखिर क्यों मनाया जाता है—

शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता है

टीचर्स डे शायरी & whatsapp Status/Teachers Day…

महात्मा गाँधी जी के नारे

भारत के पहले उपराष्ट्रपति,दूसरे राष्ट्रपति और महान शिक्षावादी डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्ण के जन्म दिन को 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने शिक्षा के छेत्र में बहुत बड़ा योगदान दिया था सर्वपल्ली एक महान शिक्षक और एक राष्ट्रपति थे।सर्वपल्ली का जन्म एक गरीबी परिवार में 5 सितम्बर 1888 को हुआ था डॉ. सर्वपल्ली राधाकृषण ने मद्रास प्रेजिडेंसी कॉलेज में दर्शनशास्त्र के अध्यापक थे.वो अपने छात्रों में बहुत प्रिये थे देश की सेवा के साथ-साथ उन्होंने देश की शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए भी कई काम किये थे।

सर्वपल्ली के छात्रों ने एक बार 1962 में उनसे उनका जन्मदिन मनाने की विनती की पर उन्होंने अपने जन्मदिन को मनाने से मना कर दिया परन्तु सर्वपल्ली जी ने अपने छात्रों को निराश भी नहीं किया और उन्होंने कहा अगर आप मेरा जन्मदिन मनाना चाहते है, तो मेरा जन्मदिन 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस के रूप में मना सकते हो तो मुझे गर्व महसूस होगा फिर इसके बाद से राधाकृष्ण का जन्मदिन 5 सितम्बर को पूरे भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाने लगा और आज भी पूरे भारत में 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस के रूप स्कूल,कॉलेज में मनाया जाता है और इस दिन शिक्षा को जमीनी स्तर से जोड़ने की कोशिश की जाती है.बैसे शिक्षक दिवस कई और भी देशो में बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है,

शिक्षक का अर्थ

शि शिखर तक ले जाने बाला
क्ष क्षमा की भावना रखने वाला
क कमजोरी दूर करने बाला

शिक्षक दिवस का आज का महत्व

दोस्तों भारत देश में प्राचीन कल से ही कई ऋषि महर्षियो ने अपने ज्ञान से सम्पूर्ण विश्व का मार्गदर्शन किया था हमारे देश भारत में गुरु को भगवान् से बढ़कर माना जाता है. भगवान् और गुरु की तुलना हमे कबीर जी ने अपने दोहे में की है.

गुरु गोविन्द दोऊ खड़े,काके लांगु पाए

बलिहारी गुरु आपकी की गोविन्द दिए बताये,,

मतलब दोस्तों अगर आपके सामने आपके गुरु और भगवान दोनों एक साथ खड़े हो जाये तो मन में समस्या उत्पन्न हो जाती है की सबसे पहले किसके चरण छुए तो भगवान खुद ही बोल देते है की गुरु ने ही भगवान् के पास पहुंचने का रास्ता दिखाया है.इसलिए सबसे पहले गुरु के चरण ही पहले छुए

ये भी पड़े

2 अक्टूबर गाँधी जयंती

बाल दिवस कब और क्यों मनाया जाता है

डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जीवन और उनकी उपलब्धिया

  • 5 सितम्बर 1888 को सर्वपल्ली का जन्म तमिलनाडु के तिरुतनी ग्राम में हुआ था
  • 1903 में सिवाकामू के साथ उनका विवाह हुआ
  • 1916 में मद्रास कॉलेज में 40 वर्षो तक शिक्षक के रूप में काम किया
  • 1952 में उन्हें देश का उपराष्ट्रपति बनाया गया
  • 1954 में उन्हें डॉ.राजेंद्र प्रसाद ने भारत रत्न की उपाधि दी
  • सर्वपल्ली 1961 में भारत के राष्ट्रपति बने
  • 17 अप्रैल 1975 को राधाकृष्णन का देहांत हो गया

किस देश में कब मानाया जाता है शिक्षक दिवस

भारत 5 सितम्बर

भूटान 2 मई

ब्राजील 15 अक्टूबर

कनाडा 5 अक्टूबर

यूनान 30 जनवरी

मैक्सिको 15 मई

श्रीलंका 6 अक्टूबर

दोस्तों शिक्षक जो की हर किसी के जीवन का एक हिस्सा होता है, जो हमे हमारे जीवन को मुस्किलो से बहार निकालने में हमारी मदद करते है. इसलिए आप शिक्षक दिवस को और बेहतरीन बनाने के लिए इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे।

मै आशा करता हूँ की आपको हमारे द्वारा शिक्षक दिवस के बारे में उचित जानकारी मिल गयी होगी. और आपको हमारी ये जानकारी पसंद भी आयी होगी आप हमे कमेंट करके जरूर बताये की आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी

Leave a Comment