कृष्णा जन्माष्टमी क्यों और कब मनायी जाती है – Why Janmashtami is celebrated

जन्माष्टमी क्यों और कब मनायी जाती है:-हैल्लो दोस्तों आप सब लोगो का playhindi.com की टीम की तरफ 2019 जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये Friends इस बार जन्माष्टमी का त्यौहार 24 अगस्त शनिवार के दिन पूरे भारत में हर्षोउल्लाश के साथ मनाया जायेगा जन्माष्टमी की तैयारी काफी दिन पहले ही खूब जोर-शोर से शुरू हो जाती हैं। लोगों के दिलों में इस त्यौहार को लेकर काफी उत्साह होता है। इस दिन चारों तरफ भगवान श्रीकृष्ण के रंग में ही डूबा रहता है। वैसे तो सभी लोग इस त्यौहार की महत्ता जानते हैं लेकिन आज की युवा पीढ़ी शायद ही जन्माष्टमी मनाने का कारण जानती होंगी। इसलिए आज हम इस लेख में आपको बताएंगे की आखिर जन्माष्टमी क्यों मनायी जाती है, तो दोस्तों आइये जानते है,जन्माष्टमी के इतिहास के बारे में

2019 जन्माष्टमी त्यौहार तिथि

इस बार जन्माष्टमी का त्यौहार 24 अगस्त 2019 शनिवार को मनाया जायेगा

निशिता पूजा का समय: 23:57 से 00:43 बजे तक
अवधि: 45 मिनट

कृष्ण जन्माष्टमी क्यों मनाई जाती है

पौराणिक ग्रथों के अनुसार भगवान विष्णु ने इस धरती पर मामा कंस के अत्याचारों से परेशान होकर, उनके विनाश के लिए, श्रीकृष्ण ने माता देवकी की कोख से मथुरा की धरती पर आधी रात में जन्म लिया था,शास्त्रों के मुताबिक 5 हज़ार 243 साल पहले कृष्ण का जन्म मथुरा में हुआ था,लेकिन उनका पालन पोषण माता यशोदा ने किया,मथुरा भगवान की जन्म-भूमि है,

इसलिए इस त्यौहार को मथुरा में बहुत ही ज़्यादा धूम-धाम के साथ मनाया जाता है.मथुरा में इस दिन दूर-दूर से जन्माष्टमी का पर्व देखने के लिए आते हैं.जन्माष्टमी की दिन मथुरा के मंदिरों को दुल्हन की तरह सजाया जाता है, जिसकी वजह से हर तरफ रौशनी हो रौशनी दिखाई देती है,

इसे भी जाने
भैया दूज क्यों मनाया जाता है

दीपावली क्यों मनाई जाती है

भगवान श्रीकृष्ण का जन्म

श्री कृष्ण देवकी और वशुदेव के 8वे पुत्र थे,मथुरा नगरी का राजा कंस जो की बहुत अत्याचारी था, उसके अत्याचार दिन पे दिन बढ़ते जा रहे थे. फिर एक समय आकाशवाणी हुई की उसकी बहन देवकी का 8वा पुत्र उसका वध करेगा,यह सुनकर कंश ने अपनी बहन देवकी और उसके पति वशुदेव सहित दोनों को कल कोठरी में दाल दिया।

कंस ने अपने वध के डर के कारण अपनी बहन देवकी के 7 बच्चो की हत्या कर दी, और जब देवकी ने अपने 8वे पुत्र को जन्म दिया तब भगवन विष्णु ने वशुदेव को आदेश दिया की वे अपने 8वे पुत्र श्री कृष्ण को गोकुल में यशोदा माता के पास पंहुचा दे,वशुदेव ने बैसा ही किया जैसा की भगवन विष्णु ने वशुदेव से कहा था, और वो श्री कृष्ण को माता यशोदा और नन्द बाबा के पास पंहुचा आये, भगवन श्री कृष्ण वचपन से ही बहुत नटखट और शरारती थे श्री कृष्ण को दही बेहद पसंद था श्री कृष्ण दही खाने के इतने शौकीन थे की वो दही को चुरा-चुरा कर खाते थे. ये भी पड़े 50+ Happy Janmashtami Status for Whats app

कैसे मनाया जाता हैं जन्माष्टमी

कैसे मनाया जाता हैं जन्माष्टमी

जन्माष्ट्मी का त्यौहार केवल मथुरा वृंदावन में ही नहीं बल्कि हर जगह मनाया जाता हैं. जगह जगह पर कान्हा और राधा रानी की झांकिया निकाली जाती हैं, जन्माष्टमी के दिन मंदिर में भगवान श्रीकृष्ण को झूला झूलाया जाता है और मंदिरों में रासलीला भी देखने को मिलती है. जन्माष्टमी के उपलक्ष्य में पूरे भारत में कई जगह मेले का आयोजन भी किया जाता है, जहा भगवान श्री कृषाब और राधा रानी की झांकियां निकाली जाती है.

इस त्यौहार का विदेशो में भी बहुत प्रचलन हैं. वहाँ भी श्री कृष्ण के नाम की धूम होती हैं.जन्माष्टमी के दिन बहुत सारे लोग व्रत भी रखते हैं। हिन्दू धर्म में इस दिन व्रत रखने का बहुत महत्व है। इस दिन अगर आप व्रत रखते हैं तो घर में सुख-समृधि आएगी और शांति बनी रहेगी।

ये भी पड़े

happy dussehra wishes whats app status & quotes

दशहरा क्यों मनाया जाता है

जन्माष्टमी व्रत विधि

जन्माष्टमी व्रत विधि

कुछ लोग जन्माष्टमी वाले दिन भगवान श्रीकृष्ण के भक्त विधि-विधान से व्रत करने का संकल्प लेते हैं. अष्टमी तिथि समाप्त होने के बाद व्रत खोला जाता है, श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर भक्त दूध, जल और घी से लड्डू गोपाल का अभिषेक करते हैं. जिस भी भक्त ने व्रत रखा है वह इस दिन फलाहार कर सकता है।

शास्त्रों के अनुशार इस दिन व्रत का पालन करने से भक्त को मोक्ष की प्राप्ति होती है, यह व्रत मनोकामनाओ को पूर्ण करने बाला होता हैशास्त्रों के अ,नुसार जन्माष्टमी व्रत के लिए जन्माष्टमी पर भक्तों को दिन भर उपवास रखना चाहिए और रात्रि के 11 बजे स्नान आदि से पवित्र हो कर घर के एकांत पवित्र कमरे में, पूर्व दिशा की ओर आम लकड़ी के सिंहासन पर, लाल वस्त्र बिछाकर, उस पर राधा-कृष्ण की तस्वीर स्थापित करना चाहिए, इसके बाद शास्त्रानुसार उन्हें विधि पूर्वक नंदलाल की पूजा करना चाहिए,

मुझे उम्मीद है की हमारे द्वारा दी गयी जन्माष्टमी के बारे में आपको उचित जानकारी मिल गयी होगी आपको ये जानकारी कैसी लगी हमे कमेंट करके जरूर बताये और इसे अपने दोस्तों और परिवार वालो के साथ फेसबुक व्हाट्सप्प पर शेयर जरूर करे

Tage: जन्माष्टमी कब मनाई जाती है, जन्माष्टमी क्यो मनाई जाती है,जन्माष्टमी कब है,जन्माष्टमी से जुड़ी कहानियाँ,

Leave a Comment