बाल दिवस कब और क्यों मनाया जाता है – Why Is Children’s Day Celebrated

बाल दिवस कब और क्यों मनाया जाता है – Why Is Children’s Day Celebrated:- हैल्लो दोस्तों आज की हमारी पोस्ट आज के युवाओं के लिए है क्योकि आज हम अपनी पोस्ट बाल दिवस के बारे में बताने जा रहा है जिसे English में Children Day भी कहते है.जी हा दोस्तों जैसा की हम सब जानते है,की 14 नम्बर को बच्चो के दिन को पूरे भारत में बाल दिवस के रूप में मनाय जाता है. बाल दिवस बच्चो के अधिकार,और उनकी देखभाल,शिक्षा, और उनके प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है. परन्तु हम आपको बताते दे की बाल दिवस क्यों मान्या जाता है, इसका क्या महत्वा इसके बारे में अभी लोगो को ज्यादा कुछ नहीं पता है,. की आखिर बाल दिवस क्यों मनाया जाता है और इसकी शुरुआत कैसे हुई है. इसलिए आज हम अपनी ये पोस्ट आपके लिए लेकर आये है, जिसमे आप जानेगे की बाल दिवस क्यों मनाया जाता है और इसका क्या महत्व है तो ज्यादा समय न लेते हुए हम आपको बल दिवस के बारे में बता शुरू करते है, तो आइये दोस्तों जानते है.

 

बाल दिवस कब और क्यों मनाया जाता है (Children Day Kyu Manaya Jata hai)
happy children day

दोस्तों आप कुछ लोगो में से अभी कुछ लोग ये नहीं जानते है की चिल्ड्रन डे क्यों मनाया जाता है, तो इसलिए इसके बारे में जान लेना बहुत ही जरूरी है।

ये भी जाने Teacher’s Day कब और क्यों मनाया जाता है

दोस्तों हम आपको बता दे की 14 नवंबर को (पंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्मदिन) को पूरे भारत में बाल दिवस(children Day) के रूप में मनाया जाता है. 14 नवंबर को जन्मे पंडित जवाहर लाल नेहरू भारत के पहले प्रधानमंत्री बने थे. 1947 में भारत स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद तुरंत बाद पंडित जवाहर लाल नेहरू को भारत का पहला प्रधानमंत्री बनाय गया था. पंडित जवाहर लाल नेहरू जिन्हे प्यार से सभी लोग चाचा नेहरू नाम से बुलाते थे.

चाचा नेहरू जी को बच्चो से विशेष प्रेम था और वो अपने समय को बच्चो के साथ बिताना बहुत पसंद करते थे.और बच्चे भी इनके साथ सहज महसूस करते थे.बच्चे आसानी से इनके बीच जुड़ जाते थे. क्योकि उन्होंने भारत के बच्चों की शिक्षा, प्रगति और कल्याण के लिए बहुत काम किया। वो बच्चों के के प्रति बहुत स्नेही थे और उनके बीच चाचा नेहरू के रूप में प्रसिद्ध हो गये।। भारत के युवाओं के विकास और प्रगति के लिए, उन्होंने विभिन्न शैक्षिक संस्थानों जैसे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान और भारतीय प्रबंधन संस्थान की स्थापना की थी।

बच्चों के प्रति गहरा प्रेम और चाचा नेहरू का चाव उनके जन्मदिन की सालगिरह को बाल दिवस के रुप में मनाने का बड़ा कारण है।और बाल दिवस के लिए नेहरू जी के जन्म दिवस से कोई अच्छा मौका नहीं हो सकता था. सबसे पहले बाल दिवस मनाये जाने का प्रस्ताव सबसे पहले श्री वी कृष्णन मेनन के द्वारा दिया गया था.स्वीकृति मिलने के बाद सबसे पहले बाल दिवस 20 अक्टूबर को मनाया गया था. लेकिन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के निधन के बाद सर्वसहमति से ये फैसला लिया गया की पंडित जवाहर लाल नेहरू के जन्म दिन के दिन बाल दिवस के रूप में मनाया जायेगा और फिर इसके बाद भारत सहित कई देशो को अपना-अपना बाल दिवस मानाने के अधिकार मिला। फिर इसके बाद से ही पूरे भारत में 14 नम्बर को बाल दिवस के रूप में मनाया जाने लगा.

इस बार 2018 में बाल दिवस Children’s Day को पंडित जवाहरलाल नेहरु जी के जन्म दिवस 14 नबम्बर बुधवार को पूरे भारत में धूम-धाम से मनाया जायेगा।

इसे भी पड़े

बाल दिवसChildren’s Day)कैसे मनाया जाता है

बाल दिवस बच्चो को समर्पित भारत का एक त्यौहार है.बाल दिवस का दिन बच्चो के लिए बहुत ही लोक प्रिय दिन होता है.14 नबम्बर को खास तौर से स्कूलों में तरह-तरह की गतिविधियां,फैंसी,ड्रेस कम्पटीशन और मेलो का आयोजन किया जाता है.और बच्चे पंडित जवाहरलाल नेहरू जी के बारे में भाषण भी देते है. और शिक्षक भी पंडित जवाहरलाल नेहरू के बारे में बताकर बच्चो का मार्गदर्शन करते है.

इसके अलावा 14 नवंबर को टीवी चैनल भी बच्चों के लिए रोचक कार्यक्रमों का प्रदर्शन करते हैं। और बच्चो को उनके अधिकारों के बारे में जानकारी देकर उन्हें प्रोत्साहित किया जाता है. स्कूलों में आयोजित कार्यक्रम में इस दिन बच्चो के माता-पिता भी अपने बच्चो को खुश करने के लिए स्कूलों के कार्यक्रम में हिस्सा लेते है. और इस दिन माता-पिता अपने बच्चो को पहार, ग्रीटिंग कार्ड वितरित करते हैं। वो पिकनिक, लंबी सैर पर जाने के साथ ही दिन का आनंद पार्टी के साथ लेते हैं.

ये भी जाने –एड्स दिवस क्यों मनाया जाता है

बाल दिवस Children’s Day का महत्व

बाल दिवस है आज हर किसी के जीवन में एक विशेष महत्व है. भारत में आज बल दिवस कुछ सांस्कर्तिक कार्यक्रम के तौर पर मनाया जाता है. परन्तु इसका मुख्य उद्देश्य तो हमे पता ही नहीं। जी हा बैसे तो बल दिवस बच्चो के लिए समर्पित है. परन्तु भारत में आज भी इसकी तरफ ध्यान देने की जरूरत है. क्योकि आज जगह-जगह आज के बच्चो से बाल श्रम करवाया जा रहा है.

सरकार बल श्रम से मुक्ति दिलाने के लिए काम कर रही है. परन्तु ये सिर्फ सरकार की ही नहीं बल्कि हमारी भी जिम्मेदारी बनती है, की अपने आस-पास के बच्चो के भविष्य को बचाये। क्योकि बच्चे ही भारत के कल का भविष्य है. इसलिए बच्चो की भावनाओ को समझे और बल दिवस पर मात्र सांस्कृतिक कार्यक्रम तक सिमित न रहे बल्कि बाहर निकले और बच्चो के लिए कुछ करे क्योकि हमे आज ऐसे ही बल दिवस की जरूरत है.और अगर हम महान भारत का निर्माण करना चाहते है.तो हमे इन मासूमो की तरफ ध्यान देना होगा,तभी जाकर कही हमारा भारत महान बन सकता है.तो इसलिए खुद से वादा कीजिये की हम सिर्फ बल दिवस पर ही नहीं बल्कि हर दिन बच्चो के हित,और उनके सपने पाने में उनकी सहायता करेंगे।

I Hope Friends की आपको Children Day के बारे में हमारी इस पोस्ट पूरी जानकारी मिल गयी होगी और मै आशा करता हूँ की आपको हमारी जानकारी पसंद भी आयी होगी।

तो दोस्तों हम आपको बता दे की आप हमारी इस पोस्ट को Social Media पर शेयर करके अपने दोस्तों को बॉल दिवस की शुभकामनाये दे सकते है. मुझे उम्मीद है की आप हमारी इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करेंगे।

Leave a Comment