दुनिया के 10 सबसे ऊंचे पर्वत कौन से है?

हमारे बीच ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्हें एडवेंचर्स का बहुत शौक है और वह लोग सदैव नए-नए एडवेंचर की तलाश में रहते हैं। इनमें से कुछ ऐसे भी लोग है, जिन्हें ऊंचे ऊंचे पहाड़ चढ़ने का बहुत शौक है लेकिन बहुत ही कम लोग ऐसे हैं जो दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत (Highest Mountains In The World) के बारे में जानते हैं। वैसे तो पूरी दुनिया में बहुत सारे ऊंचे ऊंचे पर्वत है, जिन पर चढ़ाई करने के लिए लोगों को कई सालों की ट्रेनिंग करनी पड़ती है और जो व्यक्ति इन पर्वत की चोटियों पर चढ़ जाता है.

उन्हें प्रकृति का अद्भुत नजारा देखने के साथ ही पूरी दुनिया में अपना एक अलग नाम बनाने का मौका मिलता है। यही कारण है कि कुछ लोग इन पर्वतों पर जाने के लिए अपना पूरा कैरियर दांव पर लगा देते है. आज हम आपको इस लेख में दुनिया के 10 सबसे ऊंचे पर्वतों (10 Highest Mountains In The World) के बारे में बताएंगे। जिनपर चढ़ना हर एक व्यक्ति का सपना होता है।

दुनिया के 10 सबसे ऊंचे पर्वत कौन से है? (What Are The 10 Highest Mountains In The World?)

क्या आप दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत पर चढ़कर अपना नाम पूरी दुनिया में फेमस करना चाहते हैं लेकिन आपको यह जानकारी नहीं है कि दुनिया का सबसे ऊंचा पर्वत कौन सा है? (What is the highest mountain in the world?) तो आपकी सुविधा के लिए हमने इस आर्टिकल में एक नहीं बल्कि दुनिया के 10 सबसे ऊंचे पर्वत (The 10 highest mountains in the world) के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई है।

अभी तक इन पर्वत पर कुछ ही लोग चढ़ सके हैं क्योंकि यह पर्वत दिखने में जितने सुंदर हैं उतना ही कठिन पर्वतों की चढ़ाई करना है तो आइए अब हम आपको दुनिया के टॉप 10 सबसे बड़े पर्वत (Top 10 largest mountains in the world) के बारे में बताना शुरू करते हैं-

माउंट एवरेस्ट (Mount Everest)

माउंट एवरेस्ट यह पर्वत दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वतों में से एक है जो कि पहले स्थान पर आता है।  इस पर्वत को नेपाल के स्थानीय लोग सागरमाथा नाम से जानते है जिसका का अर्थ स्वर्ग शीर्ष होता है। भारत से ही नही बल्कि अन्य देशों के लोग भी इस माउंटेन पर चढ़ाई करने के लिए हार्ड ट्रेनिंग करते है। इस दुनिया का सबसे ऊंचा पर्वत माना जाता है.

क्योंकि इसकी ऊंचाई 8850 मीटर है और वैज्ञानिकों के अनुसार इस वर्ष इस माउंटेन की ऊंचाई 2 सेंटीमीटर और बढ़ गई है कहा जाता है कि इस सबसे बड़े पर्वत की ऊंचाई मौसम के अनुसार घटती और बढ़ती रहती है। इतनी अधिक ऊंचाई होने के कारण यहां ऑक्सीजन की बहुत अधिक कमी है यही कारण है कि इस पर्वत पर जाने वाले कुछ ही लोग वापस आ पाते है। 

K2 (Mount Godwin Austen) 

K2 पर्वत पीओके कश्मीर केरारोंकर्म पर्वतमाला की सबसे ऊंची चोटी है। यह पर्वत दुनिया मे सबसे ऊंचे पर्वतों में आता है जो कि दूसरे स्थान पर है, इस पर्वत के ऊपर जाने का कई लोगों का सपना भी है। यह पर्वती ताजिक कौर गिलगीत बालटिस्तान के सीमाओं के बीचो-बीच है K2 पर्वत की ऊंचाई लगभग 8611 मीटर है और इससे गाड़वीन ऑस्टिन पर्वत के नाम से भी जाना जाता था लेकिन 1842 में ब्रिटिश सर्वशेषक टीजी मोंटगोमर्य ने इसका नाम बदलकर K2 रख दिया है। दुनिया में ऐसे बहुत से लोग हैं जो इस विशाल पर्वत पर आने का सप्ताह रखते हैं लेकिन कुछ ही लोग हैं जो अपने इस सपने को साकार कर पाते है।

कंचनजंघा (Kanchenjunga) 

कंचनजंगा की ऊंचाई लगभग 8,586 मीटर है और यह पर्वत सिक्किम के उत्तर पश्चिम भाग में नेपाल सीमा पर स्थित है। जिसे आज दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत की लिस्ट में शामिल किया जाता है। कंचनजंगा नाम की उत्पत्ति तिबतीमूल के शब्दों से हुई थी। पर्वत के ऊपर जाने के बाद का दृश्य देखने के लिए लोग ऊपर जाने के लिए बेताब रहते है क्योंकि इस पर्वत पर चढ़ने के बाद धरती पर जन्नत की अनुभूति होती है यहां से प्रकृति का ऐसा सुंदर दृश्य दिखाई देता है जिसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते है। यही कारण है कि दुनिया भर के अधिकतर लोग इस पर्वत पर जाने का सपना रखते है।

 लहोत्से (Lhotse) 

यह पर्वत दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वतों में से एक है।  लहोत्से पर्वत की ऊंचाई लगभग 8,516 मीटर है। इस पर्वत की चोटी माउंट एवरेस्ट की दक्षिण घाटी से जुड़ी हुई है। यह पर्वत इतना विशाल है कि इसको देखते हुए लोग मंमुग्द हो जाते है तथा यह उन लोगो को काफी पसंद है जो पर्वतों पर जाने का जुनून रखते है माना जाता है कि इस पर्वत के ऊपर जाने के बाद प्रकृति का एक बहुत ही अद्भुत दृश्य दिखाई देता है। लेकिन पर्वत चट्टानों से ढका होने के कारण इस पर चढ़ाई करना बहुत ही मुश्किल है और आज तक कुछ ही लोग इस पर्वत की चोटी तक पहुंच पाए हैं।

मकालू (Mkalu) 

मकालु पर्वत दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वतों में से एक है जो की पांचवें स्थान पर आता है यह पर्वत एवरेस्ट से 11 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में स्थित है। इस पर्वत की ऊंचाई लगभग 5,160 मीटर है। यह पर्वत नेपाल और चीन की सीमाओं के बीच में स्थित है। इस पर्वत की चोटी सबसे अलग है क्योंकि यह दिखने में 4 मुख्य पिरामिड के समान है। यह पर्वत दी पूरी तरह से खड़ी चट्टानों से ढका हुआ है जिसकी वजह से इस पर चढ़ाई करने के लिए लोगों को कड़ी मेहनत और ट्रेनिंग की आवश्यकता पड़ती है। कई लोग इस पर्वत के ऊपर जाने के लिए अपना आधा कैरियर दांव पर लगा देते हैं। 

चो ओयू (Cho Oyu) 

जब भी दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वतों की चर्चा की जाती है तो उसमें चो ओयू पर्वत का नाम जरूर शामिल किया जाता है। चो ओयू नाम का अर्थ तिब्बती होता है। जिसकी ऊंचाई लगभग 8201 मीटर है। जिसकी वजह से यह पर्वत पूरी तरह से बर्फ की सफेद चादर से ढका हुआ है और यहां साल के 12 महीने लगातार बर्फबारी होती है। इस पर्वत पर चढ़ाई करने वाले व्यक्ति को अपने साथ ऑक्सीजन ले जाने की आवश्यकता पड़ती है क्योंकि इस पर पर ऑक्सीजन लेवल बहुत ही कम है कहा जाता है कि इस पर्वत पर चढ़ने के बाद जो दृश्य दिखाई देता है उसे देखने के लिए हर कोई बेकरार रहता है।

धौलागिरी (Dhaulagiri) 

धौलागिरी पर्वत की ऊंचाई 8,167 मीटर है जिसकी वजह से इसे दुनिया के 10 सबसे ऊंचे पर्वत की लिस्ट में सातवें नंबर पर रखा गया है। दुनिया का यह सबसे ऊंचा पर्वत नेपाल के उत्तर बॉर्डर पर स्थित है जिसे सफेद पहाड़ के नाम से भी जाना जाता है यह दुनिया का एकमात्र ऐसा पर्वत है जिस पर चढ़ाई करना बहुत ही खतरनाक है क्योंकि यह पर्वत फिसलन भरी चट्टानों से ढका हुआ है जिसकी वजह से इस पर्वत पर चढ़ते हुए कई लोगों ने अपनी जान भी गवाही है लेकिन जो लोग इस पर्वत की चोटी पर चढ़े हैं उनका कहना है कि इस पर्वत की ऊंचाई से प्रकृति का एक अनोखा रूप देखने को मिलता है।

मनास्लु (Manaslu) 

मनास्लु पर्वत अपनी विशाल ऊंचाई और अनोखी दृश्य के लिए पूरी दुनिया में काफी प्रसिद्ध है इस विशाल पर्वत की ऊंचाई लगभग 8183 मीटर है जिसके चारों ओर कई सारे छोटे-छोटे पर्वत और चट्टाने स्थित हैं। मनास्लु पर्वत नेपाल के पश्चिम मध्य भाग में स्थित है। अगर आप इस पर्वत पर चढ़ना चाहते हैं तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसके लिए आपको पहले कड़ी ट्रेनिंग प्राप्त करनी होगी क्योंकि इस पर्वत पर चढ़ाई करना बेहद खतरनाक है लेकिन फिर भी कई ऐसे लोग हैं जो हर साल इस पर्वत पर चढ़ने का प्रयास करते हैं।

नंगा पर्वत (Nanga Parbat) 

यह पर्वत पाकिस्तान के अधिकृत क्षेत्र गिलगित बालीस्तान के क्षेत्र में आता है। जिसे दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत का खिताब हासिल है इस पर्वत की ऊंचाई 8126 मीटर बताई जाती है। इस पर्वत पर चढ़ने वाले कई लोगों ने अपनी जान गवाई है जिसकी वजह से इसे कातिल पर्वत भी कहा जाता है यह पर्वत इतना खतरनाक है कि कदम कदम पर खड़ी चट्टाने और ऑक्सीजन की कमी लोगों को बीमार करने के लिए पर्याप्त है लेकिन इतना खतरनाक होने के बावजूद भी हर साल इस पर्वत पर काफी लोग चढ़ाई करते करते अपनी जान गवा देते हैं।

अन्नपूर्णा  (Annapurna) 

यह पर्वत दुनिया के पर्वतों में से सबसे खतरनाक माना जाता है क्योंकि इस पर्वत पर चढ़ना आम बात नहीं है। जिसकी ऊंचाई तकरीबन 8092 मीटर है जो नेपाल के उत्तर भाग में मौजूद है इस पर्वत पर बहुत ही कम लोग चढ़ाई करने आते हैं हालांकि इस पर्वत की ऊंचाई कम है और इस पर चढ़ने के लिए लोगों को अधिक ट्रेनिंग करने की आवश्यकता नहीं है लेकिन फिर भी इसे सबसे खतरनाक माना जाता है जो लोग माउंट एवरेस्ट की चोटी पर चढ़ाई करने की ट्रेनिंग लेते हैं वह सभी इस पर्वत पर चढ़ते रहते हैं।

निष्कर्ष

वैसे दुनिया में कई विशाल पर्वत मौजूद हैं लेकिन आज हमने इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको दुनिया के 10 सबसे ऊंचे पर्वत कौन से हैं? के बारे में पूरी जानकारी प्रदान की है साथ ही आपको यह भी बताया है कि इन सभी पर्वतों की ऊंचाई कितनी है आशा करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो हम आपसे अनुरोध करते हैं कि इसे अपने अन्य दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें ताकि वह भी दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वतों के बारे में जान सकें।

Leave a Comment